Sufinama
noImage

Wajidji Dadupanthi

1651

Pad 14

Chhand 5

 

Kundaliya 11

Raga Based Poetry 4

 

Saakhi 3

स्वारथि साथी जगत सब, बिन स्वारथ नहिं कोइ।

बाजीदा बिन स्वार्थी, अपलट अबिहर सोइ।।

  • Share this

बाबै सकरा सांनि करि, पै पानी परि देइ।

बाजीद निंहचैं नींब कौ, करवौई फर लेई।।

  • Share this

बाजीद दास के पास कौं, फल कहा बरनैं कोइ।

तांबै तै कंचन भयौ, पारस परसैं लोइ।।

  • Share this
 

Jhulna 1

 

Arill 15