Sufinama

आज का विचार

Verily he is an Aarif

Verily he is an Aarif who is clothed with three qualities- firstly, piety; secondly conduct

Verily he is an Aarif

Verily he is an Aarif who is clothed with three qualities- firstly, piety; secondly conduct

प्रस्तुति

सूफ़ी

ख़्वाजा मीर दर्द

1721-1785

उन ने किया था याद मुझे भूल कर कहीं

पाता नहीं हूँ तब से मैं अपनी ख़बर कहीं

संत

संत बषनाजी

हिरदो बड़ो रे कठोर कोटि कियां भीजै नहीं, ऐसी पाहण नांही और।।

हिरदो बड़ो रे कठोर कोटि कियां भीजै नहीं, ऐसी पाहण नांही और।।

काव्य संचयन

सूफ़ी शब्दावली

iKHlaas

शब्दार्थ

Sincerity

चूँ बख़्त नीस्त कि बारम देही ब-ख़ल्वत-ए-ख़ास

बर आस्तान-ए-इरादत निहम सर-ए-इख़्लास

पसंदीदा विडियो

ई-पुस्तकें

शुरुआती दौर से लेकर तात्कालिक सूफ़ी साहित्य और संत-वाणी का अनूठा संग्रह

Masnavi Riyaz-e-Ishq

Khum Khana-e-Tasawwuf

1984

Sharah-e-Zulaikha

Malfuzat-e-Naqsh Bandiya

Maktubat Sheikh Abdul Haq Mohaddis Dehlvi

1990

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* सूफ़ीनामा आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा