Sufinama
noImage

क़ाज़ी महमूद दरियाई

वीरपुर, इंडिया

दोहा 5

कलमा शहादत तिल बिसारो जिसथी छूटो निदान।

महमूद मुख थी तिल बिसरे अपने अल्लाह का नाम।।

  • शेयर कीजिए

खाओ हलाल बोलो मुख सांचा राखो दुरुस्त ईमान।

छोडो जंजाल झूठी सब माया जो मन होए ज्ञान।।

  • शेयर कीजिए

मन में गरब तू मत करे, तुझ बैन कई लाख।

तेरा कहिया कौन सूने, महमूद कूं सो माख।।

  • शेयर कीजिए

गूजरी सूफ़ी काव्य 8

Added to your favorites

Removed from your favorites