Sufinama

सूफ़ी कहानियाँ

हिकायत से मुराद नज़्म या नस्र में कोई मुख़्तसर क़िस्सा या कहानी है जिसमें किसी अख़लाक़ी नुक्ता हो नुमायां किया गया हो। शेख़ सादी, मौलाना रूमी आदि की हिकायतें प्रसिद्द है।

1254 -1337

ख़्वाजा निज़ामुद्दीन औलिया के मुरीद और फ़वाइदुल-फ़ुवाद के जामे’

1009 -1072

पाकिस्तान के मशहूर सूफ़ी और कश्फ़ुलमहजूब के मुसन्निफ़

1207 -1273

मशहूर फ़ारसी शाइ’र, मसनवी-ए-मा’नवी, फ़िहि माफ़ीह और दीवान-ए-शम्स तबरेज़ी के मुसन्निफ़, आप दुनिया-भर में अपनी ला-ज़वाल तसनीफ़ मसनवी की ब-दौलत जाने जाते हैं, आपका मज़ार तुर्की में है ।

1184 -1292

ईरान के एक बड़े मुअ’ल्लिम, आपकी दो किताबें गुलसिताँ और बोसतां बहुत मशहूर हैं, पहली किताब नस्र में है जबकि दूसरी किताब नज़्म में है

बोलिए