Sufinama
noImage

औघट शाह वारसी

कलाम 19

दोहा 55

'औघट' पूजा-पाट तजो लगा प्रेम का रोग

सत्त-गुरु का ध्यान रहे यही है अपना जोग

  • शेयर कीजिए

दया गुरु की दिन दूनी और गुरु छोड़े हाथ

गुरु बसे संसार में और गुरु हमारे साथ

  • शेयर कीजिए

रोके काम कामना इंद्री राखे साध

सुंदर के तब दर्शन करे नहीं तो है अपराध

  • शेयर कीजिए

फ़ारसी कलाम 1

 

नज़्म 1